कोलकाता (एएनआई)। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के भवानीपुर पहुंचे हैं। वह विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भवानीपुर में बीजेपी के लिए डोर-टू-डोर प्रचार कर रहे हैं। इस दाैरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सवाल किया कि क्या वह लोगों को अराजकता की ओर धकेल रही हैं। इसके साथ ही कहा कि जिस तरह से टीएमसी ने अल्पसंख्यक मतदाताओं से एकजुट होने और वोट देने की अपील की है, उससे संकेत मिलता है कि उनका अल्पसंख्यक वोट बैंक भी खिसक रहा है। भाजपा को तीन चरण में बंगाल की जनता का अप्रत्याशित समर्थन मिला है। हमारे एक आकलन के हिसाब से भाजपा इन तीन चरण में 63-68 सीट जीत रही है।

हमारे कार्यकर्ताओं पर लगातार हमला रहा

अमित शाह ने कहा कि मता दीदी ने घुसपैठियों के नाम मतदाता सूची से कटवाने के लिए तीन बार संसद को परेशान किया था, आज वो ही ममता दीदी उनकी संरक्षक बनी हैं। लोग कैसे-कैसे बदलते हैं, मैं तो सोच भी नहीं सकता हूं। हमारे कार्यकर्ताओं पर लगातार हमला होना, हमारे प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष पर पिछले 2-3 दिन में हमला हुआ। कल भवानीपुर में पुलिस स्टेशन में बैठे हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला हुआ। इन हमलों के खिलाफ टीएमसी के एक भी नेता की टिप्पणी नहीं आई, मौन इशारा कर रहा है कि आप हिंसा करिए। टीएमसी की निराशा उनके व्यवहार और भाषणों से साफ दिखाई ​देती है।

ऐसा दृश्य अपने राजनीतिक जीवन में कभी नहीं देखा

गृह मंत्री ने कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री और राजनीतिक दल की अध्यक्ष ये कहती हैं कि CAPF का घेराव कर लो, मैंने ऐसा दृश्य अपने राजनीतिक जीवन में कभी नहीं देखा। वो(CM) आरोप लगा रही हैं कि गृह मंत्रालय के इशारे पर CAPF चुनाव को प्रभावित कर रहा है, मैं दीदी को कॉमन सेंस की बात बताना चाहता हूं कि CAPF जब चुनाव के काम में लगता है तो गृह मंत्रालय का नियंत्रण नहीं होता है। पैरामिलिट्री फोर्स पर चुनाव आयोग का नियंत्रण होता है। आठ चरणों में होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा के चुनाव के तीन चरण पहले ही हो चुके हैं। चौथे चरण का चुनाव शनिवार को होगा।