Tokyo Olympics: सेमीफाइनल में खूब लड़ी भारत की बेटियां, आखिर में अर्जेंटीना से 1-2 से गईं हार
Tokyo Olympics: सेमीफाइनल में खूब लड़ी भारत की बेटियां, आखिर में अर्जेंटीना से 1-2 से गईं हार

यह भी पढ़ें

कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। जेवलिन थ्रोअर अन्नू रानी महिला लॉन्ग थ्रो क्वालिफिकेशन – ग्रुप ए में शानदार प्रदर्शन के बाद यहां ओलंपिक स्टेडियम में महिलाओं के फाइनल के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रही। 63.00 (क्यू) या कम से कम 12 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले (क्यू) का क्वालीफाइंग प्रदर्शन महिला भाला फेंक के फाइनल में पहुंच जाएगा। हालांकि, ये 12 एथलीट ग्रुप ए और बी के प्रतियोगियों को मिलाकर होंगे। ग्रुप ए क्वालिफिकेशन राउंड बाद में दिन में होगा।

Tokyo Olympics: भारतीय रेसलर रवि दहिया ने फाइनल में बनाई जगह, भारत का चौथा मेडल पक्का
Tokyo Olympics: भारतीय रेसलर रवि दहिया ने फाइनल में बनाई जगह, भारत का चौथा मेडल पक्का

यह भी पढ़ें

अन्नू रानी हो गईं फेल
रानी ने अपने पहले प्रयास में 50.35 मीटर का थ्रो किया। पहले प्रयास के बाद रानी को नौवें स्थान पर रखा गया। दूसरे प्रयास में, 28 वर्षीय ने 53.19 मीटर का थ्रो दर्ज किया और तब तक बाकी एथलीट ने भी अपना दूसरा प्रयास कर लिया था जिसके बाद रानी 14 वें स्थान पर खिसक गई। अन्नू ने अपने तीसरे और अंतिम थ्रो में 54.04 मीटर का थ्रो दर्ज किया और क्वालीफिकेशन ग्रुप ए के समाप्त होने पर वह 14वें स्थान पर ही बनी रहीं और पिछड़ गईं।

पोलैंड की मारिया रहीं टाॅप पर
पोलैंड की मारिया आंद्रेजिक ने अपने पहले ही प्रयास में 65.24 का थ्रो दर्ज किया और इसके परिणामस्वरूप, उन्होंने फाइनल के लिए क्वाॅलीफाई कर लिया। इस साल की शुरुआत में, अन्नू ने नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप के उद्घाटन के दिन 63.24 मीटर प्रयास के साथ अपना राष्ट्रीय रिकॉर्ड फिर से लिखा।