कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। Surya Grahan 2021 Date दुर्लभ खगोलीय घटना, सुपर ब्लड मून को देखने के करीब दो हफ्ते बाद ही लोग एक और दुर्लभ घटना देखने जा रहे हैं। अब साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगने जा रहा है। सूर्य ग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच से गुजरता है। इस दाैरान चंद्रमा सूर्य की रोशनी को पृथ्वी पर आने से रोकता है और चंद्रमा की पृथ्वी पर जो छाया पड़ती है उसे ही सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

ग्रहण की अवधि 3 मिनट और 44 सेकंड
10 जून को, दुनिया साल 2021 का पहला वलयाकार सूर्य ग्रहण देखने जा रही है, जिससे चंद्रमा के चारों ओर ‘रिंग ऑफ फायर’ बन जाएगा। दृक पंचांग के मुताबिक साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण नहीं होगा क्योंकि चंद्रमा की छाया सूर्य का मात्र 97 प्रतिशत भाग ही ढकेगी। आकाशमण्डल में चन्द्रमा की छाया सूर्य के केन्द्र के साथ मिलकर सूर्य के चारों ओर एक वलयाकार आकृति बनाएगी। इस सूर्य ग्रहण की अवधि 3 मिनट और 44 सेकंड की होगी।

कहां दिखाई देगा सूर्य ग्रहण 2021?
वलयाकार सूर्य ग्रहण उत्तर-पूर्वी कनाडा, रूसी फास्ट ईस्ट, ग्रीनलैंड और उत्तरी ध्रुव के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। आंशिक सूर्य ग्रहण यूरोप, उत्तरी अमेरिका, एशिया, आर्कटिक और अटलांटिक क्षेत्रों में दिखाई देगा। भारत में यह ग्रहण बस अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। इसके साथ ही यह सूर्यग्रहण पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, अफगानिस्तान, फिजी, मॉरीशस, संयुक्त अरब अमीरात और अन्य दक्षिण एशियाई देशों से दिखाई नहीं देगा।

कैसे देखें सूर्य ग्रहण 2021?
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य ग्रहण का मनुष्यों के जीवन पर भी प्रभाव पड़ता है। ऐसे में सूर्य ग्रहण के दाैरान काफी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। जो लोग इस पल को देखना चाहते हैं उन्हें स्पेशल आई गियर पहनना चाहिए, अन्यथा सीधे सूर्य को देखने से सूर्य से निकलने वाले हानिकारक किरणें आपकी आंखों को काफी नुकसान पहुंचा सकती हैं। ऐसे में कुंडलाकार सूर्य ग्रहण देखने के लिए लोगों को वेल्डर ग्लास, स्पेशल आई गियर या पिनहोल कैमरा पहनना चाहिए।