नई दिल्ली (एएनआई)। हाई कोविड-19 पाॅजिटिविटी रेट वाले छह राज्यों तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, महाराष्ट्र, केरल के मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए छह राज्यों के मुख्यमंत्रियों को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने कहा, भारत सरकार ने कोविड-19 से निपटने के लिए 23,000 करोड़ रुपये के आपातकालीन प्रतिक्रिया पैकेज की घोषणा की है। राज्यों को इस पैकेज से मिलने वाली राशि का इस्तेमाल स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए करना चाहिए। बुनियादी ढांचे की कमी को पूरा करने की जरूरत है। ग्रामीण क्षेत्रों पर भी ध्यान देने की जरूरत है।

महाराष्ट्र और केरल में मामलों में लगातार इजाफा

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि कोविड ​​​​-19 के 80 प्रतिशत मामले तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, महाराष्ट्र, केरल से आए हैं। महाराष्ट्र और केरल में मामलों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। ऐसे में उन्हें तीसरी लहर की संभावना को रोकने के लिए सक्रिय उपाय करने और ‘टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट-वैक्सीनेशन’ दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है।

कोरोना के खिलाफ प्रभावी कदम उठाना जरूरी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम एक ऐसे प्वाइंट पर हैं जहां कोविड की संभावित तीसरी लहर के बारे में बात हो रही है। पीएम ने यह भी कहा कि विशेषज्ञ बताते हैं कि लंबे समय तक लगातार मामले बढ़ने से कोरोना वायरस में म्यूटेशन की आशंका बढ़ जाती है, नए वेरिएंट का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए तीसरी लहर को रोकने के लिए कोरोना के खिलाफ प्रभावी कदम उठाया जाना जरूरी है।