नई दिल्ली (पीटीआई)। भारत हमेशा की तरह इस साल भी 26 जुलाई को ‘करगिल विजय दिवस’ मना रहा है। आज कारगिल की दिवस की 22वीं सालगिरह है। इस खास अवसर पर कारगिल युद्ध में सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि हम उनके बलिदानों को याद करते हैं। हम उनकी वीरता को याद करते हैं। आज कारगिल विजय दिवस पर हम उन सभी को श्रद्धांजलि देते हैं जिन्होंने हमारे देश की रक्षा करते हुए कारगिल में अपनी जान गंवाई। उनकी बहादुरी हमें हर दिन प्रेरित करती है।

रक्षामंत्री व गृहमंत्री ने शहीदों को किया नमन

देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट किया कि कारगिल विजय दिवस के अवसर पर मैं भारतीय सेना के अदम्य शौर्य, पराक्रम और बलिदान को नमन करता हूं। इस दाैरान उन्होंने एक वीडियो भी ट्वीट किया। वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने लिखा कारगिल विजय दिवस पर इस युद्ध के सभी वीर सेनानियों का स्मरण करता हूं। आपके अदम्य साहस, वीरता और बलिदान से ही कारगिल की दुर्गम पहाड़ियों पर तिरंगा पुनः गर्व से लहराया। देश की अखंडता को अक्षुण्ण रखने के आपके समर्पण को कृतज्ञ राष्ट्र नमन करता है। कारगिल विजय दिवस की शुभकामनाएं।

राहुल गांधी ने कारगिल शहीदों को दी श्रद्धांजलि

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी शहीदों को नमन करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि हमारे तिरंगे की गरिमा में अपनी जान देने वाले प्रत्येक सेनानी को दिल से श्रद्धांजलि। देश की सुरक्षा के लिए आपके व आपके परिवारों के इस सर्वोच्च बलिदान को हम हमेशा याद करेंगे। जय हिंद। कारगिल विजय दिवस युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत का प्रतीक है। 1999 में करगिल की पहाड़ियों पर भारत और पाकिस्तान के बीच खौफनाक जंग हुई थी। यह जंग मई में शुरू हुई थी और जुलाई तक खत्म हुई थी। 26 जुलाई को भारत ने जीत का ऐलान किया था।