कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। July 2021 Vrat & Festival Calendar जुलाई का महीना हिंदू पंचांग में विशेष माना जाता है। अक्सर जुलाई में आषाढ़ और सावन पड़ने से इस महीने में झमाझम बारिश के बीच कई बड़े व्रत त्योहार मनाए जाते हैं। इस साल आषाढ़ का महीना 24 जुलाई पूर्णिमा के दिन समाप्त होगा और इसके बाद 25 जुलाई से श्रावण माास यानि सावन का महीना शुरू होगा। ऐसे में इस बार जुलाई में आषाढ़ महीने की जगन्नाथ यात्रा, देवशयनी एकादशी और गुरु पूर्णिमा जैसे कई बड़े आयोजन होंगे। इसके अलावा सावन महीने का पहला सोमवार भी जुलाई में ही होगा। हिंदू धर्म में सावन के महीने में सोमवार का विशेष महत्व बताया गया है।
26 जुलाई को सावन महीने का पहला सोमवार
हिंदू पंचांग के मुताबिक 5 जुलाई को योगिनी एकादशी पड़ रही है। एकादशी तिथि भगवान विष्णु को अतिप्रिय होती है। इसके बाद 11 जुलाई को गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रहे हैं। 12 जुलाई को जगन्नाथ रथ यात्रा का शुभारंभ हो रहा है। हर साल भगवान जगन्नाथ को वर्ष में एक बार उनके गर्भ गृह से निकालकर रथ यात्रा कराई जाती है। 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी मनाई जाएगी। देवशयनी एकादशी के बाद करीब 4 महीनों तक कोई शुभ कार्य नहीं किए जाएंगे। 24 जुलाई को पूर्णिमा की तिथि के साथ आषाढ़ मास का समापन होगा। 26 जुलाई को सावन महीने का पहला सोमवार पड़ेगा। इसके बाद 27 जुलाई को संकष्टी चतुर्थी, मंगला गौरी व्रत होगा।

जुलाई 2021: व्रत एवं त्योहारों की सूची

05 जुलाई
योगिनी एकादशी

07 जुलाई
प्रदोष व्रत

08 जुलाई
मासिक शिवरात्रि

11 जुलाई
गुप्त नवरात्रि प्रारंभ तिथि

12 जुलाई
जगन्नाथ रथ यात्रा

13 जुलाई
विनायक चतुर्थी

19 जुलाई
आशा दशमी

20 जुलाई
देवशयनी एकादशी

21 जुलाई
प्रदोष व्रत,‌‌ वामन द्वादशी, वासुदेव द्वादशी

22 जुलाई
विजया पार्वती व्रत और मंगला तेरस

23 जुलाई
आषाढ़ पूर्णिमा,

24 जुलाई
गुरु पूर्णिमा

26 जुलाई
श्रावण मास का पहला सोमवार

27 जुलाई
संकष्टी चतुर्थी, मंगला गौरी व्रत

28 जुलाई,
मौना पंचमी और नाग मरुस्थले

30 जुलाई
शीतला सप्तमी व्रत

डिसक्लेमर
‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। ‘