कानपुर (इंटरनेट-डेस्क)। योग तन, मन और आत्मा को शुद्ध करता है। इसी वजह से कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में लोगों ने योग को अपनी लाइफ स्टाइल में शामिल क्योंकि इस दाैर में बहुत से लोग लो इम्यूनिटी, टेंशन, ओवरवेट जैसी परेशानियों से जूझ रहे थे। योग के विभिन्न रूप हैं और इसमें सबसे ज्यादा काॅमन सूर्यनमस्कार है जो सुबह में किया जाता है। योग के अभ्यास के लिए सप्ताह में कम से कम 3 बार करीब 30-45 मिनट का समय दें। वैसे तो सुबह जल्दी उठना योग प्रैक्टिस शुरू करने के लिए बेहतर टाइम माना जाता है लेकिन शाम भी खराब नही है।

स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी
चंद्र नमस्कार के बारे में बहुत कम लोग बात करते हैं। यह चंद्रोदय पर शाम 6 बजे के आसपास चंद्रमा की ओर मुख करके किया जाता है। यह आसन स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी है, खासकर जब पूर्णिमा के दौरान किया जाता है। इस चंद्र नमस्कार के 14 चरण या 14 आसन चांद के 14 चरणों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए 21 जून को आने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 पर इस मुद्रा का अभ्यास करके अपने स्वास्थ्य को मजबूत बनाएं। यह मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों जैसे अवसाद, तनाव, चिंता आदि के इलाज के लिए अच्छा है। यह व्यक्ति को शांत भी बनाता है।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा
मून चैनल को आपकी भावनाओं के लिए जिम्मेदार बताया गया है। इसलिए, इस मुद्रा के बहुत सारे भावनात्मक फायदे हैं। उदाहरण के लिए, यह मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों जैसे अवसाद, तनाव, चिंता आदि के इलाज के लिए अच्छा है। यह व्यक्ति को शांत भी बनाता है।

स्वाद में सुधार
चंद्र नमस्कार स्वाद में सुधार करता है और आपके शरीर में भावनात्मक संतुलन को भी बढ़ाता है।

पीठ के निचले हिस्से में सुधार
यह मुद्रा न केवल आपकी पीठ के निचले हिस्से के लिए बल्कि आपके कंधों, श्रोणि क्षेत्र और घुटनों के लिए भी फायदेमंद है। यह आपके घुटने के कैप में सुधार करता है और आपके श्रोणि क्षेत्र को पहले की तुलना में थोड़ा लचीला बनाता है।

वजन कम करता
चंद्र नमस्कार वजन घटाने को बढ़ावा देता है और आपके शरीर के संतुलन को बढ़ाता है।

चंद्र नमस्कार के स्टेप
1. प्रणाम आसन (प्रार्थना मुद्रा)
2. हस्त उत्तानासन (हाथ उठाई हुई मुद्रा)
3. पादहस्तासन (आगे की ओर झुकना)
4. अश्व संचालनासन (घुड़सवारी मुद्रा)
5. श्वास लें और पीछे की ओर झुकें (अर्धचंद्र आसन)
6. संथोलानासन (तख़्त मुद्रा)
7. अष्टांग नमस्कार आसन (अष्टांग नमस्कार)
8. भुजंगासन (कोबरा मुद्रा)
9. अधो मुख संवासन (नीचे की ओर कुत्ता मुद्रा)
10. अश्व संचालनासन (घुड़सवारी मुद्रा)
11. श्वास लेते हुए पीछे की ओर झुकें (अर्धचंद्र आसन)
12. पादहस्तासन (आगे की ओर झुकना)
13. हस्त उत्तानासन
14. प्रणाम आसन
दाहिने पैर के साथ 14 चरणों को दोहराएं और इसे कुल 28 चरणों के साथ 1 पूर्ण चक्र बनाएं।

Disclaimer: शोध और कई अध्ययनों के आधार पर लेख पूरी तरह से जानकारीपूर्ण है। हालांकि inextlive.com स्वतंत्र रूप से इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं करता है। उपर्युक्त सुझावों में से किसी का पालन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना उचित है।
International Yoga Day 2021: कोविड-19 महामारी के बीच इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आजमाएं ये 5 योग आसन

International Yoga Day 2021: इसलिए 21 जून को मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, जानें महत्व और थीम