कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। भारत के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन को पहला वनडे मैच खेलने का मौका मिला और डेब्यू मैच में ही उन्होंने इतिहास रच दिया। किशन ने मैच में ताबड़तोड़ पारी खेली और रिकाॅर्ड बुक में अपना नाम दर्ज कराया। ईशान ने वो कारनामा कर दिखाया जो रोहित, कोहली जैसे दिग्गज भी नहीं कर पाए थे। ईशान ने वनडे डेब्यू में अर्धशतकीय पारी खेली, यही नहीं उन्होंने जब पहला टी-20 इंटरनेशनल मैच खेला था तब भी हाॅफसेंचुरी लगाई थी।

ये कारनामा करने वाले पहले भारतीय
ईशान किशन ODI और T20I क्रिकेट दोनों में डेब्यू पर अर्धशतक लगाने वाले भारत के पहले और दुनिया के दूसरे क्रिकेटर बन गए। उन्होंने मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ टी20ई डेब्यू में 56 रन बनाए और अब वह श्रीलंका के खिलाफ वनडे डेब्यू पर 59 रन बनाकर रिकाॅर्ड बुक में शामिल हो गए। दक्षिण अफ्रीका के रस्सी वैन डेर डूसन ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी थे, जिन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ अपने टी20ई डेब्यू में 56 और पाकिस्तान के खिलाफ एकदिवसीय मैच में 93 रन बनाए थे।

दूसरा सबसे तेज डेब्यू अर्धशतक
ईशान किशन ने 33 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया और एक डेब्यूटेंट द्वारा यह दूसरा सबसे तेज एकदिवसीय अर्धशतक है। कुणाल पांड्या ने इस साल की शुरुआत में इंग्लैंड के खिलाफ 26 गेंदों में वनडे डेब्यू पर सबसे तेज अर्धशतक बनाने का रिकॉर्ड बनाया था। किशन अपने जन्मदिन पर वनडे में डेब्यू करने वाले दूसरे भारतीय और 16वें खिलाड़ी भी बने।

बतौर विकेटकीपर सबसे बड़ी पारी
ईशान किशन ने बतौर विकेटकीपर डेब्यू मैच में सबसे बड़ी पारी खेली। 1997 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सबा करीम के 55 रन को पार करते हुए, किशन का स्कोर एकदिवसीय डेब्यू पर एक भारतीय विकेटकीपर का सबसे अधिक है। यह इस प्रारूप में डेब्यू पर किसी विकेटकीपर द्वारा आठवां हाईएस्ट स्कोर भी है।

20 साल बाद पहली गेंद पर लगा छक्का
किशन 2001 के बाद से पहले खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने डेब्यू मैच की पहली गेंद पर छक्का लगाया। इस दौरान चार अन्य बल्लेबाजों ने एकदिवसीय मैचों में अपनी पहली गेंद पर छक्का लगाया, लेकिन वह उनका डेब्यू मैच नहीं था – जोहान लू (दक्षिण अफ्रीका, 2008), जावेद दाऊद (कनाडा, 2010), क्रेग वालेस (स्कॉटलैंड, 2016) और रिचर्ड नगारवा ( जिम्बाब्वे, 2017)।

बर्थडे पर लगाया अर्धशतक
किशन से पहले सिर्फ चार भारतीय अपने जन्मदिन पर अर्धशतक लगाने में सफल रहे थे, लेकिन वह वनडे डेब्यू पर उपलब्धि हासिल करने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं।