Bhai Dooj 2021 Wishes, Images, Quotes: भाई दूज पर अपनों को भेजें ये खूबसूरत शुभकामनाएं और व्‍हाट्सऐप पर सजाएं ये शानदार स्‍टेट्स
Bhai Dooj 2021 Wishes, Images, Quotes: भाई दूज पर अपनों को भेजें ये खूबसूरत शुभकामनाएं और व्‍हाट्सऐप पर सजाएं ये शानदार स्‍टेट्स

यह भी पढ़ें

पं राजीव शर्मा (ज्योतिषाचार्य)। होली के पहले दिन को ‘होलिका दहन’ या छोटी होली के रूप में जाना जाता है और दूसरी रंगवाली होली, धुलेटी, धुलंडी या धूलिवंदन है, जहाँ लोग रंगों से खेलते हैं। होलिका दहन के दिन, लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को एक अलाव के आसपास इकट्ठा करते हैं और विभिन्न गीतों और तुकबंदी गाकर होलिका दहन मनाते हैं।

Holi 2021: होली पर नवग्रहों को शांत करने के उपाय, जानें किस ग्रह शांति के लिए कौन सी लकड़ी से करें जाप

Holi 2021: मेष राशि वाले खेलें लाल रंग से, तो मकर वालों के लिए नीला रंग, अपनी राशि के अनुसार चुनें होली का रंग
Holi 2021: मेष राशि वाले खेलें लाल रंग से, तो मकर वालों के लिए नीला रंग, अपनी राशि के अनुसार चुनें होली का रंग

यह भी पढ़ें

राख को शरीर पर चाहिए लेपना
पूजन के बाद जल से अर्ध्य दे तथा सूर्यास्त के बाद प्रदोषकाल में होलिका में अग्नि प्रज्ज्वलित करें।होली की अग्नि में सेंक कर लाये गए धान्यों को खाएं,इसके खाने से निरोगी रहने की मान्यता है।ऐसा माना जाता है कि होली की बची हुई अग्नि तथा राख को अगले दिन प्रातः काल घर में लाने से घर को अशुभ शक्तियों से बचाने में सहयोग मिलता है तथा इस राख को शरीर पर लेपन करना भी कल्याणकारी रहता है।

Holi 2021: सिर्फ एक घंटे का है होलिका दहन मुहूर्त, जानें क्या लगेगी पूजन सामग्री

होली की राख से लाभ
किसी ग्रह की पीड़ा होने पर होलिका दहन के समय देशी घी में भिगोकर दो लोंग के जोड़े,एक बताशा और एक पान के पत्ते पर रखकर अर्पित करना चाहिए।अगले दिन होली की राख लाकर अपने शरीर पर तेल की तरह लगाकर एक घंटे बाद हल्के गर्म पानी से स्नान करना चाहिए।ग्रह पीड़ा से मुक्ति मिलेगी।

Holika Dahan 2021: पुत्र प्रहलाद की विष्णुभक्ति से नाराज था हिरण्यकश्यप, जानें होलिका दहन से जुड़ी ये पूरी कहानी

होली पर बरतने वाली विशेष सावधानियां
1. होली के दिन प्रातः काल हींग के पानी से मुख शोधन करना चाहिए।
2. प्रातः काल हनुमानजी की पूजा करनी चाहिए।
3. प्रातः काल अपने पितरों का स्मरण करना चाहिए।
4. होली जलाते समय अपने ऊपर से लौंग वारकर होली की अग्नि में डालें।
5. इस दिन हनुमानजी को चोला एवं भैरव जी पर तेल अवश्य चढ़ायें।