नई दिल्ली (एएनआई)। एंटीवायरल वीराफिन का सिंगल डोज मरीजों के उपचार में काम आ रही है। कंपनी का दावा है कि कोविड-19 संक्रमण के शुरुआत में इस दवा के इस्तेमाल से मरीजों को तेजी से रिकवर हाेने में मदद मिल रही है। इस दवा के इस्तेमाल से उनमें कंप्लीकेशन नहीं बढ़ता तथा वे जल्दी ठीक होते हैं। कैडिला ने बताया है कि यह दवा अन्य वायरल संक्रमण में भी कारगर है।

अन्य वायरल संक्रमण में भी कारगर

मामले की प्रगति पर बात करते हुए कैडिला हेल्थकेयर लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर डाॅ. शर्विल पटेल ने कहा, ‘शुरुआत में यह दवा देने पर वायरल लोड कम करके बीमारी को ठीक करने में आसानी होती है। यह ऐसे समय में सामने आया है जब मरीजों को इसकी बेहद जरूरत है। कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में हम यह सबको उपलब्ध कराते रहेंगे।’

ट्रायल में मिले बेहतरीन नतीजे

इस दवा के तीसरे क्लीनिकल ट्रायल में कोविड-19 संक्रमण से पीड़ित मरीजों में इसका बेहतर परिणाम देखने को मिला है। ट्रायल के दौरान इस दवा के देने के 7 दिन बाद मरीजों का आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव पाया गया। कंपनी का दावा है कि इस दवा से तेजी से वायरल संक्रमण दूर होता है। साथ ही इससे अन्य वायरल संक्रमण भी दूर होते हैं।

कोविड की दूसरी लहर से हलकान

डीजीसीआई की यह मंजूरी तब सामने आई है जब भारत कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। केंद्र सरकार ने 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को कोविड-19 वैक्सीन देने की महत्वपूर्ण घोषणा की है। पिछले 24 घंटों के दौरान भारत में कोविड-19 संक्रमण के 3,32,730 नये मामले सामने आए हैं। महामारी के दौरान यह एक दिन में सर्वाधिक आंकड़ा है।