Aaj Ka Panchang 8 Oct: जानें शुक्रवार का पंचांग व दिशाशूल, आज यहां दीपक जलाएं और धन प्राप्ति का योग पाएं
Aaj Ka Panchang 8 Oct: जानें शुक्रवार का पंचांग व दिशाशूल, आज यहां दीपक जलाएं और धन प्राप्ति का योग पाएं

यह भी पढ़ें

डाॅ. त्रिलोकीनाथ (ज्योतिषाचार्य और वास्तुविद)। Dainik Panchang 6 October 2021: हिंदू धर्म में पंचांग का विशेष महत्व होता है। बुधवार 6 अक्टूबर 2021को अमावस्या तिथि 16:36:20 तक तदोपरान्त प्रतिपदा तिथि है। अमावस्या तिथि के स्वामी पित्र देव हैं तथा प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्निदेव हैं। बुधवार के दिन गणेश भगवान की पूजा करने का विशेष महत्व होता है। आज के दिन शरीर पर तेल लगाने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

Aaj Ka Panchang 7 Oct: जानें गुरुवार का पंचांग व दिशाशूल, आज भगवान विष्णु की पूजा से प्राप्‍त होगा यह फल
Aaj Ka Panchang 7 Oct: जानें गुरुवार का पंचांग व दिशाशूल, आज भगवान विष्णु की पूजा से प्राप्‍त होगा यह फल

यह भी पढ़ें

आज के दिन क्या करें और क्या न करें
बुधवार को उत्तर दिशा में जाना अशुभ होता है यदि आवश्यक हो तो घर से धनियां या तेल खाकर निकलें। इस तिथि में कांसे के पात्र में भोजन करना मना है। यह तिथि पितृ कार्य और शल्य क्रिया के लिए शुभ है। दिन का शुभ मुहूर्त, दिशाशूल की स्थिति, राहुकाल एवं गुलिक काल की वास्तविक स्थिति के बारे में जानकारी आगे दी गई है।

06 अक्टूबर 2021 दिन- बुधवार का पंचांग
सूर्योदयः- प्रातः 06:10:00
सूर्यास्तः- सायं 05:50:00
विशेषः- बुधवार के दिन गणेश भगवान की पूजा करने का विशेष महत्व होता है। आज के दिन शरीर पर तेल लगाने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।
विक्रम संवतः- 2078
शक संवतः- 1943
अयनः- दक्षिणायन
ऋतुः- शरद ऋतु
मासः- अश्विन माह
पक्षः- कृष्ण पक्ष
तिथिः- अमावस्या तिथि 16:36:20 तक तदोपरान्त प्रतिपदा तिथि
तिथि स्वामीः- अमावस्या तिथि के स्वामी पित्र देव हैं तथा प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्निदेव हैं।
नक्षत्रः- हस्त नक्षत्र 23:20:25 तक तदोपरान्त चित्रा नक्षत्र
नक्षत्र स्वामीः- हस्त नक्षत्र के स्वामी चन्द्र देव जी हैं तथा चित्रा नक्षत्र के स्वामी मंगल देव जी हैं।
योगः- ब्रह्मा 08:31:46 तक तदोपरान्त वैधृति
दिशाशूलः- बुधवार को उत्तर दिशा में जाना अशुभ होता है यदि आवश्यक हो तो घर से धनियां या तेल खाकर निकलें।
गुलिक कालः- शुभ गुलिक काल 12:19:00 P.M से 01:53:00 P.M तक
राहुकालः- आज का राहुकाल 03:27:00 P.M से 05:01:00 P.M तक
तिथि का महत्वः- इस तिथि में कांसे के पात्र में भोजन करना मना है। यह तिथि पितृ कार्य और शल्य क्रिया के लिए शुभ है।
“हे तिथि स्वामी, दिन स्वामी, योग स्वामी, नक्षत्र स्वामी आप पंचांग का पाठन करने वालों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखना।”