डाॅ. त्रिलोकीनाथ (ज्योतिषाचार्य और वास्तुविद)। Dainik Panchang 14 September 2021: मंगलवार 14 सितंबर को अष्टमी तिथि 13:10:00 तक तदोपरान्त नवमी तिथि है। अष्टमी तिथि के स्वामी भगवान शिव जी हैं तदोपरान्त नवमी तिथि की स्वामिनि दुर्गा जी हैं। मंगलवार के दिन बजरंगबली की पूजा का विशेष महत्व है। आज के दिन उत्तर दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए यदि यात्रा करना ज्यादा आवश्यक हो तो घर से गुड़ खाकर जायें। इस तिथि में नारियल नहीं खाना चाहिए तथा यह तिथि आभूषण, रत्न खरीदने और धारण करने के लिए शुभ है। दिन का शुभ मुहूर्त, दिशाशूल की स्थिति, राहुकाल एवं गुलिक काल की वास्तविक स्थिति के बारे में जानकारी आगे दी गई है।

14 सितम्बर 2021 दिन – मंगलवार का पंचांग

सूर्योदयः- प्रातः 05:53:00

सूर्यास्तः- सायं 06:07:00

विशेषः- मंगलवार के दिन बजरंगबली की पूजा का विशेष महत्व है।

विक्रम संवतः- 2078

शक संवतः- 1943

आयनः- दक्षिणायन

ऋतुः- शरद ऋतु

मासः- भाद्र माह

पक्षः- शुक्ल पक्ष

तिथिः- अष्टमी तिथि 13:10:00 तक तदोपरान्त नवमी तिथि

तिथि स्वामीः- अष्टमी तिथि के स्वामी भगवान शिव जी हैं तदोपरान्त नवमी तिथि की स्वामिनि दुर्गा जी हैं।

नक्षत्रः- ज्येष्ठा 07:05:00 तक तदोपरान्त मूल नक्षत्र

नक्षत्र स्वामीः- ज्येष्ठा के स्वामी बुध देव हैं तथा मूल नक्षत्र के स्वामी केतु देव हैं।

योगः- विषकुंभ 08:49:16 तक तदोपरान्त आयुष्मान

गुलिक कालः- शुभ गुलिक काल 12:16:00 से 01: 49:00 तक

दिशाशूलः- आज के दिन उत्तर दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए यदि यात्रा करना ज्यादा आवश्यक हो तो घर से गुड़ खाकर जायें।

राहुकालः- आज का राहुकाल 03:22:00 से 04:55:00 तक

तिथि का महत्वः- इस तिथि में नारियल नहीं खाना चाहिए तथा यह तिथि आभूषण, रत्न खरीदने और धारण करने के लिए शुभ है।

“हे तिथि स्वामी, योग स्वामी, नक्षत्र स्वामी, दिन स्वामी आप पंचांग का पाठन करने वालों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखना।”