Tuesday, October 19, 2021
HomeViral Newsसमुद्र में 29 दिनों तक भटकते रहे 2 दोस्त, जिंदा रहने के...

समुद्र में 29 दिनों तक भटकते रहे 2 दोस्त, जिंदा रहने के लिए करना पड़ा ये काम


समुद्र में 29 दिनों तक भटकते रहे 2 दोस्त, जिंदा रहने के लिए करना पड़ा ये काम

By Rahul Kumar

|

Google Oneindia News

नई दिल्ली, अक्टूबर 11: लोग अक्सर एडवेंचर के लिए समुद्र में यात्राएं करते हैं। लेकिन कई बार ये एडवेंचर लोगों की जिंदगी के लिए खतरा बन जाते हैं। एक ऐसी ही चौंकाने वाली घटना सामने आई है। समुद्री यात्रा के दौरान दो युवक रास्ता भटक गए। दोनों ने कहा कि वे बारिश के पानी, संतरे और नारियल पानी से उन दिनों अपना गुजारा कर रहे थे, ताकि वो हाइड्रेटेड रह सकें। हालांकि उन्हें रेस्क्यू कर लिया गया।

एक छोटी मोटरबोट पर न्यू जॉर्जिया द्वीप के लिए निकले थे 2 दोस्त

एक छोटी मोटरबोट पर न्यू जॉर्जिया द्वीप के लिए निकले थे 2 दोस्त

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड से कुछ सौ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है सोलोमन द्वीपसमूह। छोटे-छोटे टापूओं और हरी-भरी वादियों वाले इस देश में हर साल बड़ी संख्या में टूरिस्ट भी आते हैं। यहां पर एक द्वीप से दूसरे द्वीप तक जाने के लिए लोग मोटरबोट का इस्तेमाल करते हैं। दो दोस्तों को ऐसी ही एक द्वीप पर जाने के लिए मोटरबोट का इस्तेमाल करना महंगा पड़ गया। रिपोर्ट में बताया गया है कि लिवे नानजिकाना अपने दोस्त जूनियर कोलोनी के साथ 3 सितंबर को मोनो द्वीप से 60-हॉर्सपावर की एक छोटी मोटरबोट पर न्यू जॉर्जिया द्वीप के लिए निकले थे।

भारी बारिश के चलते बिगड़ गई वोट

भारी बारिश के चलते बिगड़ गई वोट

लेकिन जब उनके ट्रैकर ने काम करना बंद कर दिया। एक एडवेंचर जर्नी अचानक से जिंदा रहने की लड़ाई में बदल गई। इस दौरान दोनों दोस्त रास्ता भटक गए। जबकि वे दोनों नाविक थे। द गार्जियन की एक रिपोर्ट के अनुसार, दोनों दोस्तों ने बताया कि उन्होंने पहले भी समुद्री यात्राएं की हैं। लेकिन, इस बार भारी बारिश और तेज हवा ने उनके जहाज को खराब कर दिया। उनके बोट का जीपीएस ट्रैकर खराब हो गया। जिसके चलते वे मोनो द्वीप से 400 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में पहुंच गए।

संतरों और बारिश के पानी से जिंदा रहे दोनों शख्स

संतरों और बारिश के पानी से जिंदा रहे दोनों शख्स

चंद घंटों में खत्म होने वाले के इस सफर के लिए उन्होंने अपने पास संतरे की एक बोरी के अलावा कोई दूसरा खाना या पानी तक नहीं रखा था। इन दोनों नाविकों ने संतरे, समुद्र से इकट्ठा किए गए नारियल और एक छोटे से कैनवास के जरिए बचाए गए बारिश के पानी का इस्तेमाल किया। लगातार वे समुद्र से निकलने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन उन्हें किसी भी तरह की कोई मदद नहीं मिल पा रही थी।

ब्वॉयफ्रेंड को ना खले मां की कमी, इसलिए गर्लफ्रेंड ने रचा ली उसके डैडी से शादीब्वॉयफ्रेंड को ना खले मां की कमी, इसलिए गर्लफ्रेंड ने रचा ली उसके डैडी से शादी

ऐसे बची जान

ऐसे बची जान

29वें दिन उन्होंने देखा कि लकड़ी की डोंगी में एक मछुआरा दोनों की मोटरबोट से थोड़ी दूरी पर घूम रहा था। हालांकि दोनों ने मछुआरे का ध्यान अपनी ओर खींचने का प्रयास किया, बदकिस्मती उनकी ये कोशिश भी असफल साबित हुई। आखिरकार मछुआरे ने खुद ही दोनों को देखा। जैसे ही मछुआरे ने हमारी ओर देखा, हम चिल्लाने लगे और लगातार अपने हाथों से इशारा कर रहे थे। जैसे ही वह हमारे पास पहुंचा, हमने उससे पूछा- अब हम कहां हैं? और उसने जवाब दिया,” पीएनजी। हमारी जान में जान आया और हमे लगा, ओह अब हम सुरक्षित हैं।

रेस्क्यू के दौरान ठीक से नहीं चल पा रहे थे दोनों शख्स

रेस्क्यू के दौरान ठीक से नहीं चल पा रहे थे दोनों शख्स

ये दोनों नाविक इतने कमजोर हो गए थे कि इन्हें नाव से घर तक सहारा देकर लाना पड़ा। घर वापसी के बाद नंजिकाना ने कहा, “मुझे नहीं पता था कि जब मैं वहां था तो क्या चल रहा था। मैंने कोविड या कुछ और के बारे में नहीं सुना। मैं घर वापस जाने के लिए उत्सुक हूं, लेकिन मुझे लगता है कि यह सब कुछ से एक अच्छा ब्रेक था।

अधिक coronavirus समाचार  

  • नहीं ली थी कोरोना वैक्सीन, ब्राजील के राष्ट्रपति को फुटबॉल मैच देखने के लिए स्टेडियम में नहीं मिली एंट्री
  • कोरोना के मामलों में राहत जारी, पिछले 24 घंटों में मिले 18132 नए मरीज, 21563 ठीक
  • यूपी में 18 अक्टूबर तक सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द, लखीमपुर खीरी जिले में 10 IPS अफसरों की तैनाती
  • कोविशिल्ड का ब्लूप्रिंट चुराकर बनाई गई स्पुतनिक कोरोना वैक्सीन, ब्रिटेन का रूस पर गंभीर आरोप
  • फेस्टिवल सीजन को लेकर केंद्र सरकार अलर्ट, कोरोना पर कंट्रोल के लिए शुरू किया ‘मिशन 100 डे’ अभियान
  • सरकार ने भारत में निर्मित रूसी कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक लाइट के निर्यात को दी मंजूरी
  • Coal Shortage: इन सभी राज्यों में हो सकती है बत्ती गुल! पूरी लिस्ट यहां देखिए
  • दिल्ली में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 29 नए मामले आए, 1 मरीज की मौत
  • कोरोना टीकाकरण अभियान ने हासिल किया 95 करोड़ का आंकड़ा, 100 करोड़ के लक्ष्य पर है सरकार की नजर
  • Covid 19: टीकाकरण अभियान को लेकर PM मोदी ने कही खास बात, जानिए क्या कहा?
  • वैक्सीन लेने वाले लोगों को अहमदाबाद नगर निगम दे रहा है सरसों का तेल और लकी ड्रॉ, मिलेंगे 10-10 हजार रुपए
  • ‘वैक्सीन मैत्री’ के तहत नेपाल, म्यांमार समेत 4 देशों को भारत से भेजी गई वैक्सीन: सूत्र

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments