नई दिल्ली (एएनआई)। देश में बढ़ती महंगाई, पेगासस जासूसी कांड और कृषि कानूनों जैसे कई मुद्दों पर दोनों सदनों में मोदी सरकार को घेरने की रणनीति और भविष्य की कार्रवाई के लिए विपक्षी दलों के नेताओं ने संसद में आज सुबह एक बैठक की। इसकी अध्यक्षता राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने की। वायनाड के सांसद ने भी बैठक में भाग लिया। बैठक के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि सरकार यह कहकर विपक्ष को बदनाम कर रही है कि हम संसद को चलने नहीं दे रहे हैं, जबकि हम नागरिकों, किसानों और देश की सुरक्षा से संबंधित मामलों को उठा रहे हैं। हम महंगाई, पेगासस और किसानों के मुद्दों पर समझौता नहीं बल्कि चर्चा करना चाहते हैं। इस दाैरान विपक्षी नेताओं ने उनका समर्थन किया।

बैठक में आज 14 दलों ने लिया हिस्सा

बैठक में कांग्रेस समेत कुल 14 दलों ने हिस्सा लिया। इसमें द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), शिवसेना, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), समाजवादी पार्टी (सपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, राष्ट्रीय सम्मेलन, आम आदमी पार्टी (आप), इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML), रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (आरएसपी), केरल कांग्रेस (एम) और विदुथलाई चिरुथिगल काची (वीसीके)।

लोकसभा और राज्यसभा दोनों में हंगामा

विपक्षी दल तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने और निगरानी के आरोपों की जांच सहित अपनी मांगों को लेकर लोकसभा और राज्यसभा दोनों में स्थगन को मजबूर कर रहे हैं। वे स्थगन प्रस्ताव नोटिस भी देते रहे हैं। 19 जुलाई को मानसून सत्र शुरू होने के बाद से दोनों सदनों में विपक्ष का विरोध हो रहा है।