बर्धमान (एएनआई)। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बर्धमान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, दीदी ने बंगाल में ‘माटी माटी मानुष’ के नाम से 10 वर्षों तक शासन किया, लेकिन वह इन दिनों रैलियों में ‘मोदी, मोदी, मोदी’ कहती रहती हैं। दीदी ने केवल शासन के नाम पर गड़बड़ी की है। दीदी के करीबी सहयोगियों ने कहना शुरू कर दिया है कि जो लोग बीजेपी को वोट देते हैं, उन्हें बाहर निकाल दिया जाएगा? क्या लोग इस तरह की भाषा, इन पंक्तियों, इस अहंकार का अनुमोदन करते हैं? क्या यह लोकतंत्र है?” पीएम ने अपने संबोधन में आगे कहा कि दीदी ओ दीदी, अगर आप अपना गुस्सा उतारना चाहती हैं, तो मैं यहां हूं। जितना चाहे उतना मुझे गाली दो लेकिन बंगाल की गरिमा और परंपरा का अपमान मत करो।

दीदी की कड़वाहट,गुस्सा, बौखलाहट दिनों-दिन बढ़ती ही जा रही

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि दीदी की कड़वाहट,गुस्सा, बौखलाहट दिनों-दिन बढ़ती ही जा रही है, क्योंकि बंगाल में हुए आधे चुनावों में आपने टीएमसी को साफ कर दिया है। यानि आधे चुनाव में ही टीएमसी पूरी साफ। चार चरणों के चुनाव में बंगाल की जागरूक जनता ने इतने चौके-छक्के मारे कि बीजेपी की सीटों की सेंचुरी हो गई है। दीदी को ये भी मालूम है कि एक बार बंगाल से कांग्रेस गई तो कभी वापस नहीं आई। वामपंथी वाले, लेफ्ट वाले गए वापस नहीं आएं। दीदी, आप भी एक बार गई तो कभी वापस नहीं आएंगी।

दीदी के लोग अनुसूचित जाति के हमारे भाई-बहनों को गाली देने लगे

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि दीदी के लोग बंगाल के अनुसूचित जाति के हमारे भाई-बहनों को गाली देने लगे हैं। वे उन्हें भिखारी कहने लगे हैं। अभी 14 अप्रैल को ही बाबा साहेब की जन्म जयंती है, जन्म जयंती से पहले दीदी व टीएमसी ने बाबा साहेब आंबेडकर का इतना बड़ा अपमान किया। प्रधानमंत्री ने बताया कि यह मतदान असोल परिवर्तन के लिए है। असोल परिवर्तन यानी दीदी के कुशासन, सिंडिकेट और तोलाबाजों से मुक्ती। बंगाल के लोगों ने तय कर दिया है कि बीजेपी की बहुत बड़ी जीत होने जा रही है।