लुधियाना (एएनआई)। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू का स्वागत करने के लिए बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता अमृतसर के गोल्डन गेट पर इकट्ठा हुए। नवजोत सिंह सिद्धू की एक झलक पाने के लिए लोग आतुर दिखे। वहीं दूसरी ओर लुधियाना के नवांशहर में भगत सिंह मार्ग पर पहुंचने पर पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू को काले झंडे दिखाए गए। एक किसान संगठन कृषि कानूनों का विरोध कर रहा था और सिद्धू से सवाल करना चाहता था। कांग्रेस दूसरी तरफ थी और संघर्ष से बचना चाहती थी। इस संबंध में एसएचओ अवतार सिंह ने बताया कि प्रदर्शनकारियों पर कोई लाठीचार्ज नहीं किया गया।

रविवार को पंजाब कांग्रेस के प्रमुख बनाए गए

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह संग हफ्तों तक चली तनानती और कड़े विरोध के बाद क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू को बीते रविवार शाम को पंजाब कांग्रेस का प्रमुख घोषित किया गया। अपनी नियुक्ति के बाद, उन्होंने पटियाला में गुरुद्वारा श्री दुखनिवारन साहिब में पूजा-अर्चना की। सिद्धू के अलावा, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने संगत सिंह गिलजियान, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल और कुलजीत सिंह नागरा को भी पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है।

कई दौर की बैठकों के बाद यह फैसला आया

अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के साथ कांग्रेस आलाकमान के बीच कई दौर की बैठकों के बाद यह फैसला आया। अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर सिद्धू की संभावित नियुक्ति को लेकर आशंका व्यक्त की थी। पंजाब के प्रभारी कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने शनिवार को यह आश्वासन दिया था कि अमरिंदर सिंह आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के मुख्यमंत्री पद का चेहरा बने रहेंगे क्योंकि उनके शासन ने राज्य के लोगों से प्रशंसा अर्जित की है।