CM योगी से सिंगर साेनू निगम ने की मुलाकात, अयोध्या के बाद अब कल जाएंगे काशी विश्वनाथ
CM योगी से सिंगर साेनू निगम ने की मुलाकात, अयोध्या के बाद अब कल जाएंगे काशी विश्वनाथ

यह भी पढ़ें

कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। हिंदी फिल्म जगत के मशहूर सिंगर सोनू निगम ने रविवार को चल रहे कोविड -19 महामारी के कारण कुंभ मेले को इस वर्ष के लिए प्रतीकात्मक बनाए जाने पर अपनी राय दी है। सोनू को लगता है, महामारी के बीच धार्मिक सभा को होने नहीं देना चाहिए था। सोनू निगम ने रविवार को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो पोस्ट किया और उसी पर प्रतिक्रिया दी। बता दें बीते कुछ समय से कुंभ में जुट रही भीड़ को लेकर काफी सवाल खड़े हो रहे थे। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल कुंभ को प्रतीकात्मक बनाए जाने की अपील की और कई अखाड़ों ने कुंभ से वापसी का एलान भी कर दिया।

Coronavirus Impact on Bollywood : सोनू निगम जनता कर्फ्यू के वक्त करेंगे ऑनलाइन कॉन्सर्ट, बताई वजह
Coronavirus Impact on Bollywood : सोनू निगम जनता कर्फ्यू के वक्त करेंगे ऑनलाइन कॉन्सर्ट, बताई वजह

यह भी पढ़ें

लोगों के जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं
अपने इंस्टाग्राम वीडियो में, सोनू निगम ने हिंदी में कहा: “मैं किसी और चीज के बारे में कमेंट नहीं कर सकता, मैं एक हिंदू के रूप में पैदा हुआ हूं और एक हिंदू के रूप में, मुझे लगता है कि कुंभ मेले को पहले स्थान पर नहीं होना चाहिए। भगवान का शुक्र है कि इसे प्रतीकात्मक बनाया गया है। मैं समझता हूं कि यह विश्वास का विषय है लेकिन दुनिया की वर्तमान स्थिति को देखते हुए लोगों के जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं हो सकता है। “

लाइव शो को भी बंद करने के लिए कहा
अपने वीडियो में गायक ने यह भी कहा कि लाइव शो को महामारी की दूसरी लहर के बीच व्यवस्थित नहीं किया जाना चाहिए, जिसने भारत को बुरी तरह प्रभावित किया है। उन्होंने कहा: “एक गायक के रूप में, मुझे लगता है कि लाइव शो का आयोजन अभी नहीं किया जाना चाहिए। शो सामाजिक दूरी बनाए रखने और सावधानी बरतने से हो सकता है, लेकिन अभी नहीं, बाद में हमें बहुत सावधान रहना होगा, स्थिति बहुत खराब है।’ अपने वीडियो में आगे, गायक ने बताया कि वह सोमवार को गोवा से मुंबई लौट आएंगे और एहतियात के तौर पर खुद को अलग कर लूंगा। उन्होंने कहा: “मैं कल गोवा से मुंबई लौटूंगा और कुछ दिनों के लिए अपने कमरे में खुद को अलग कर लूंगा क्योंकि मुझे अपने पिता से मिलना है। एक बार जब मुझे यह सही लगता है, तो मैं जाकर अपने पिता से मिलूंगा।”